Muhajir nama

Posted by mdasif on November 3, 2015

मुहाजिर हैं मगर हम एक दुनिया छोड़ आए हैं,
तुम्हारे पास जितना है हम उतना छोड़ आए हैं ।

Muhazir hain magar hum aek duniya chhod aaye hain
Tumhare paas jitana hain hum utna chhod aaye hain


कहानी का ये हिस्सा आज तक सब से छुपाया है,
कि हम मिट्टी की ख़ातिर अपना सोना छोड़ आए हैं ।

Kahani ka ye hissa aaj tak sab se chupaya hain
ki hum mitti ki khatir apna sona chhod aaye hain ।


नई दुनिया बसा लेने की इक कमज़ोर चाहत में,
पुराने घर की दहलीज़ों को सूना छोड़ आए हैं ।

Nai duniya basa lene ki aek kamjor chahat me
Purane ghar ki dhalizon ko suna chhod aaye hain


अक़ीदत से कलाई पर जो इक बच्ची ने बाँधी थी,
वो राखी छोड़ आए हैं वो रिश्ता छोड़ आए हैं ।

Akidat se kalaai par jo aek bacchi ne baandhi thi
Wo raakhi chod aaye hain wo rista chhod aaye hain


किसी की आरज़ू के पाँवों में ज़ंजीर डाली थी,
किसी की ऊन की तीली में फंदा छोड़ आए हैं ।

Kisi ki aarjoo ke paanwo me janjir daali thi
Kisi ki oon ki tili me fanda chod aaye hain


पकाकर रोटियाँ रखती थी माँ जिसमें सलीक़े से,
निकलते वक़्त वो रोटी की डलिया छोड़ आए हैं ।

Pakakar rotiyaa rakhti thi MAA jisme salike se
Nikalte waqt wo roti ki daliya chhod aaye hain


जो इक पतली सड़क उन्नाव से मोहान जाती है,
वहीं हसरत के ख़्वाबों को भटकता छोड़ आए हैं ।

Jo ik patli si sadak Unnav se Mohan jaati hain
Wahi hasrat ke khwabon ko bhatakta chod aaye hain


यक़ीं आता नहीं, लगता है कच्ची नींद में शायद,
हम अपना घर गली अपना मोहल्ला छोड़ आए हैं ।

Yakin aata nahi, lagta hain kcchi neend me shyaad
Hum apna ghar gali apna mohalla chhod aaye hain


हमारे लौट आने की दुआएँ करता रहता है,
हम अपनी छत पे जो चिड़ियों का जत्था छोड़ आए हैं ।

Humare lout aane ki duaaen karta rahta hain
Hum apni chat pe jo chidiyon ka jattha chod aaye hain


हमें हिजरत की इस अन्धी गुफ़ा में याद आता है,
अजन्ता छोड़ आए हैं एलोरा छोड़ आए हैं ।

Hume hijarat ki is andhi gufa me yaad aata hain
Ajanta chod aaye hain Elora chhod aaye hain


सभी त्योहार मिलजुल कर मनाते थे वहाँ जब थे,
दिवाली छोड़ आए हैं दशहरा छोड़ आए हैं ।

Sabhi tyohar miljul kar manate the waha jab the
Diwali chod aaye hain Dshahara chod aaye hain


हमें सूरज की किरनें इस लिए तक़लीफ़ देती हैं,
अवध की शाम काशी का सवेरा छोड़ आए हैं ।

Hume suraj ki kirne is liye taklif deti hain
Awadh ki sham Kaashi ka savera chhod aaye hain


गले मिलती हुई नदियाँ गले मिलते हुए मज़हब,
इलाहाबाद में कैसा नज़ारा छोड़ आए हैं ।

Gale milti hui nadiya gale milte hue majhab
Ilhabad me kaisa nazara chod aaye hain


हम अपने साथ तस्वीरें तो ले आए हैं शादी की,
किसी शायर ने लिक्खा था जो सेहरा छोड़ आए हैं ।

Hum apne saath tasviren to le aaye hain shaadi ki
Kisi shayar ne likha tha jo sehara chhod aaye hain


कई आँखें अभी तक ये शिकायत करती रहती हैं,
के हम बहते हुए काजल का दरिया छोड़ आए हैं ।

Kai aankhen abhi tak yah shikayat karti rahati hain
Ke hum bahate hue kazal ka dariya chod aaye hain


शकर इस जिस्म से खिलवाड़ करना कैसे छोड़ेगी,
के हम जामुन के पेड़ों को अकेला छोड़ आए हैं ।

Shakr is jisam se khilwaad karna kaise chodegi
Ke hum jamun ke pedon ko akela chhod aaye hain


वो बरगद जिसके पेड़ों से महक आती थी फूलों की,
उसी बरगद में एक हरियल का जोड़ा छोड़ आए हैं ।

Wo bargad jiske pedon se mahak aati thi phoolon ki
Usi bargad me aek hariyal ka joda chod aaye hain


अभी तक बारिसों में भीगते ही याद आता है,
के छप्पर के नीचे अपना छाता छोड़ आए हैं ।

Abhi tak barison me bhigte hi yaad aata hain
Ke chappar ke neeche apna chaata chhod aaye hain


भतीजी अब सलीके से दुपट्टा ओढ़ती होगी,
वही झूले में हम जिसको हुमड़ता छोड़ आए हैं ।

Bhatiji ab salike se duptta odhti hogi
Wahi jhulen mein hum jisko humadta chod aaye hain


ये हिजरत तो नहीं थी बुजदिली शायद हमारी थी,
के हम बिस्तर में एक हड्डी का ढाचा छोड़ आए हैं ।

Ye hijarat to nahi thi bujdali shyaad humari thi
Ke hum bistar me aek haddi ka dhacha chhod aaye hain


हमारी अहलिया तो आ गयी माँ छुट गए आखिर,
के हम पीतल उठा लाये हैं सोना छोड़ आए हैं ।

Humari ahliya to aa gayi Maa choot gaye aakhir
Ke hum pital utha laye hain sona chod aaye hain


महीनो तक तो अम्मी ख्वाब में भी बुदबुदाती थीं,
सुखाने के लिए छत पर पुदीना छोड़ आए हैं ।

Mahino tak to ammi khwab me bhi budbudati thi
Sukhane ke liye chat par pudina chhod aaye hain


वजारत भी हमारे वास्ते कम मर्तबा होगी,
हम अपनी माँ के हाथों में निवाला छोड़ आए हैं ।

Vajaarat bhi humare waste kam martaba hogi
Hum apni Maa ke haathon me niwala chod aaye hain


यहाँ आते हुए हर कीमती सामान ले आए,
मगर इकबाल का लिखा तराना छोड़ आए हैं ।

Yaha aate hue har kimti saman le aaye
Magar Iqbal ka likha tarana chhod aaye hain


हिमालय से निकलती हर नदी आवाज़ देती थी,
मियां आओ वजू कर लो ये जूमला छोड़ आए हैं ।

Himalay se nikalti har nadi aawaz deti thi
Miya aao wajoo kar lo ye joomla chod aaye hain


वजू करने को जब भी बैठते हैं याद आता है,
के हम जल्दी में जमुना का किनारा छोड़ आए हैं ।

Wajoo karne ko jab bhi baethte hain yaad aata hain
Ke hum jaldi me jamna ka kinara chhod aaye hain


उतार आये मुरव्वत और रवादारी का हर चोला,
जो एक साधू ने पहनाई थी माला छोड़ आए हैं ।

Utaar aaye murwwat aur rawadari ka har chola
JO aek sadhu ne pahanai thi mala chod aaye hain


जनाबे मीर का दीवान तो हम साथ ले आये,
मगर हम मीर के माथे का कश्का छोड़ आए हैं ।

Janabe MEER ka deewan to hum saath le aaye
Magar hum MEER ke maathe ka kashka chhod aaye hain


उधर का कोई मिल जाए इधर तो हम यही पूछें,
हम आँखे छोड़ आये हैं के चश्मा छोड़ आए हैं ।

Udhar ka koi mil jaaye idhar to hum yahi pooche
Hum aankhen chod aaye hai ke chashma chod aaye hain


हमारी रिश्तेदारी तो नहीं थी हाँ ताल्लुक था,
जो लक्ष्मी छोड़ आये हैं जो दुर्गा छोड़ आए हैं ।

Humari ristedari to nahi thi haan talluk tha
Jo lakshmi chod aaye hai jo Durga chhod aaye hain


गले मिलती हुई नदियाँ गले मिलते हुए मज़हब,
इलाहाबाद में कैसा नाज़ारा छोड़ आए हैं ।

Gale milti hui nadiyan gale milte hue majhab
Ilahabad me kaisa nazara chod aye hain


कल एक अमरुद वाले से ये कहना गया हमको,
जहां से आये हैं हम इसकी बगिया छोड़ आए हैं ।

Kal aek amrud wale se ye kahana gaya humko
Jahan se aaye hai hum iski bagyia chhod aaye hain


वो हैरत से हमे तकता रहा कुछ देर फिर बोला,
वो संगम का इलाका छुट गया या छोड़ आए हैं।

Wo haerat se hume takta raha kuch der fir bola
Wo sangam ka ilaka chut gaya ya chhod aaye hain


अभी हम सोच में गूम थे के उससे क्या कहा जाए,
हमारे आन्सुयों ने राज खोला छोड़ आए हैं ।

Abhi hum soch me goom the ke usse kya kaha jaaye
Humare aansuyon ne raaz khola chhod aaye hain


मुहर्रम में हमारा लखनऊ इरान लगता था,
मदद मौला हुसैनाबाद रोता छोड़ आए हैं ।

Muharam me hamara Lakhnau Iraan lagta tha
Madad moula Hsaenabaad rota chod aaye hain


जो एक पतली सड़क उन्नाव से मोहान जाती है,
वहीँ हसरत के ख्वाबों को भटकता छोड़ आए हैं ।

Jo aek patli sadak Unnaaw se Mohan jaati hain
Wahi hasrat ke khwwabon ko bhatakta chod aaye hain


महल से दूर बरगद के तलए मवान के खातिर,
थके हारे हुए गौतम को बैठा छोड़ आए हैं ।

Mahal se dur bargad ke talay mawan ke khatir
Thake haare hue Goutam ko baetha chhod aaye hain


तसल्ली को कोई कागज़ भी चिपका नहीं पाए,
चरागे दिल का शीशा यूँ ही चटखा छोड़ आए हैं ।

Tassali ko koi kagaj bhi chipka nahi paaye
Charrege dil ka sheesha yu hi chatakha chhod aaye hain


सड़क भी शेरशाही आ गयी तकसीम के जद मैं,
तुझे करके हिन्दुस्तान छोटा छोड़ आए हैं ।

Sadak bhi shershaahi aa gay taksim ke jad me
Tujhe karke hindusthan chota chhod aaye hain


हसीं आती है अपनी अदाकारी पर खुद हमको,
बने फिरते हैं युसूफ और जुलेखा छोड़ आए हैं ।

Hasi aati hain apni adakaari par khud humko
Bane firte hain Yusuf aur Julekha chhod aaye hain


गुजरते वक़्त बाज़ारों में अब भी याद आता है,
किसी को उसके कमरे में संवरता छोड़ आए हैं ।

Gujarte waqt bajaaron me ab bhi yaad aata hain
Kisi ko uske kamre me sawartaa chhod aaye hain


हमारा रास्ता तकते हुए पथरा गयी होंगी,
वो आँखे जिनको हम खिड़की पे रखा छोड़ आए हैं ।

Humara rasta takte hue pathra gayi hongi
Wo aankhe jinko hum khidki pe rakha chod aaye hain


तू हमसे चाँद इतनी बेरुखी से बात करता है
हम अपनी झील में एक चाँद उतरा छोड़ आए हैं ।

Tu humse chaand itni berukhi se baat karta hain
Hum apni jhil me aek chaand utra chhod aaye hain


ये दो कमरों का घर और ये सुलगती जिंदगी अपनी,
वहां इतना बड़ा नौकर का कमरा छोड़ आए हैं ।

Ye do kamro ka ghar aur ye sulgti jindgi apni
Waha itna bada noukar ka kamra chhod aaye hain


हमे मरने से पहले सबको ये ताकीत करना है ,
किसी को मत बता देना की क्या-क्या छोड़ आए हैं ।

Hume marne se pahle sabko ye taakit karna hain
Kisi ko mat bata dena ki kya kya chod aaye hain


दुआ के फूल जहाँ पंडित जी तकसीम करते थे
वो मंदिर छोड़ आये हैं वो शिवाला छोड़ आये हैं

Dua ke fool jahaan pandit ji taksim karte the
wo mandir chod aaye hain wo shivala chhod aaye hain


हमीं ग़ालिब से नादीम है हमीं तुलसी से शर्मिंदा
हमींने मीरको छोडा है मीरा छोड आए हैं

Humi Gaalib se nadeem hai humi Tulsi se sarminda
Hamin ne Meer ko choda hain Meera chod aaye hain


अगर लिखने पे आ जायें तो सियाही ख़त्म हो जाये
कि तेरे पास आयें है तो क्या-क्या छोड आये हैं

Agar likhne pe aa jaaye to siyahee khatm ho jaaye
Ki tere paas aaye hain to kya kya chhod aaye hain


ग़ज़ल ये ना-मुक़म्मल ही रहेगी उम्र भर “राना”
कि हम सरहद से पीछे इसका मक़्ता छोड आयें है


comments powered by Disqus